Tuesday, November 22, 2016

याराना - Friendship

आँसू तब भी निकले थे, 
ग़ालिब -
जब उसने नाता तोडा था !

और, आज भी अश्क़ निकले हैं 
जब मेला है यारों का सजा !

बस, फर्क सिर्फ इतना ही 
की आज मैं हँस पड़ा !


Copyright @ Ajay Pai 2016
Image courtesy : AJ's personal archive

Post a Comment